Call us now: (+91) 94135 68044

 Bank PO & Clerk New Batch Started.............................................................. Delhi / Rajasthan Police New Batch Started............................................................ BANK CLERK (9 : 00 AM to 01 : 00 PM) ..............................................................REET I & II LEVEL (12 : 30 PM to 05 : 30 PM).............................................................. Our site is currently under processing and updating . We will update all notes soon . Thank you

 

Current Affairs 13 - 16 Sep 2017

1) रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने 10 सितम्बर 2017 को महिलाओं के दल द्वारा पूरी पृथ्वी की समुद्री परिक्रमा लगाने के देश के पहले अभियान (India’s first all-women crew circumnavigation expedition) को गोवा में झण्डी दिखाकर रवाना किया। इस ऐतिहासिक अभियान का क्या नाम है? – “नाविक सागर परिक्रमा” (“Navika Sagar Parikrama”)

विस्तार: “नाविक सागर परिक्रमा” (“Navika Sagar Parikrama”) उस ऐतिहासिक तथा महात्वाकांक्षी अभियान को दिया गया नाम है जिसके तहत भारतीय नौसेना की 6 महिलाएं एक नौका के द्वारा पूरी पृथ्वी की समुद्री परिक्रमा लगायेंगी। इस अभियान को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गोवा के पणजी के निकट स्थित आईएनएस मण्डोवी (INS Mandovi) नौसेना प्रशिक्षण बेस में झण्डी दिखाकर रवाना किया।

इस अभियान में “आईएनएसवी तारिणि” (INSV Tarini) नामक 55-फुट लम्बी नौका का इस्तेमाल किया जायेगा जिसका निर्माण स्वदेश में ही गोवा के एक्वेरियस शिपयार्ड (Aquarius Shipyard) द्वारा किया गया है। इस नौका को इसी साल भारतीय नौसेना में शामिल किया गया है।

ले. कमाण्डर वर्तिका जोशी (Lt. Cdr Vartika Joshi) के नेतृत्व वाला यह अभियान अपनी यात्रा के दौरान चार बंदरगाहों पर रुककर अपनी यात्रा के लिए आवश्यक साजो-सामान व वस्तुओं की पूर्ति तथा नौका में जरूरी मरम्मत, आदि करेगा। ये चार बंदरगाह हैं – ऑस्ट्रेलिया का फ्रेमेण्टल (Fremantle), न्यूज़ीलैण्ड का लिटिलटन (Lyttleton), अर्जेन्टीना के फॉकलैण्ड का पोर्ट स्टेनली (Port Stanley) और दक्षिण अफ्रीका का केप टाउन (Cape Town)। यह अभियान अप्रैल 2018 में गोवा वापस पहुँचेगा।

अभियान में शामिल अन्य 5 सदस्य हैं – ले. कमाण्डर प्रतिभा जामवाल, ले. कमाण्डर स्वाति पी. ले. ऐश्वर्या बोद्दापति, ले. विजया देवी और ले. पायल गुप्ता।

……………………………………………………………………

2) वर्ष 2017 के यूएस ओपन (2017 US Open) पुरुष एकल फाइनल में राफेल नडाल (Rafael Nadal) ने केविन एण्डरसन (Kevin Anderson) को पराजित कर अपने करियर का तीसरा यूएस ओपन एकल खिताब जीत लिया। इस खिताबी जीत के साथ नडाल कितने ग्रैण्ड स्लैम (Tennis Grand Slam) एकल खिताब जीत चुके हैं? – सोलह (16)

विस्तार: न्यूयॉर्क के फ्लशिंग मेडोज़ में यूएस ओपन टेनिस ग्रैण्ड स्लैम के पुरुष एकल फाइनल (Men’s singles final) में 10 सितम्बर 2017 को स्पेन (Spain) के दिग्गज खिलाड़ी तथा मौजूदा विश्व नम्बर 1 राफेल नडाल (Rafael Nadal) ने दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के केविन एण्डरसन (Kevin Anderson) को बड़ी आसानी से 6-3, 6-3, 6-4 से पराजित कर अपने करियर का 16वाँ ग्रैण्ड स्लैम एकल खिताब हासिल कर लिया। यह उनके करियर का तीसरा यूएस ओपन खिताब था, उन्होंने इससे पहले 2010 और 2013 में यह खिताब जीता था।

सोलह ग्राण्ड स्लैम जीतकर अब वे अपने चिर-प्रतिद्वन्दी स्विट्ज़रलैण्ड (Switzerland) के रोजर फेडरर (Roger Federer) के सर्वाधिक 19 ग्रैण्ड स्लैम खिताब जीतने के कीर्तिमान से 3 खिताब दूर हैं।

वहीं इस फाइनल में पहुँचने वाले एण्डरसन यूएस प्रतियोगिता के फाइनल में स्थान बनाने वाले 1965 के बाद दक्षिण अफ्रीका के पहले खिलाड़ी बन गए। 1965 में क्लिफ ड्राइसडेल (Cliff Drysdale) इस प्रतियोगिता के फाइनल में पहुँचे थे। वे 1981 के बाद ग्रैण्ड स्लैम जीतने की कोशिश करने वाले दक्षिण अफ्रीका के पहले खिलाड़ी भी बने। 1965 में दक्षिण अफ्रीका के जोहान क्रीक (Johan Kriek) ने ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) खिताब जीता था।

……………………………………………………………………

3) यूएस ओपन का महिला एकल खिताब (women’s singles title) जीतकर किसने 9 सितम्बर 2017 को अपने करियर का पहला टेनिस ग्रैण्ड स्लैम खिताब जीत लिया? – स्लोन स्टीफेन्स (Sloane Stephens)

विस्तार: अमेरिका की स्लोन स्टीफेन्स (Sloane Stephens) ने 2017 के यूएस ओपन (2017 US Open) के महिला एकल फाइनल में 9 सितम्बर 2017 को अपने ही देश की मेडिसन कीज़ (Madison Keys) को बेहद आसानी से 6-3, 6-0 से हराकर अपने करियर का पहला ग्रैण्ड स्लैम खिताब जीतने में सफलता हासिल की। यह दोनों खिलाड़ियों का पहला ग्रैण्ड स्लैम एकल फाइनल था। टूर्नामेण्ट से पूर्व स्लोन स्टीफेन्स की विश्व रैंकिंग 83 थी तथा उन्हें इस टूर्नामेण्ट में कोई वरीयता प्रदान नहीं की गई थी। उन्होंने सेमीफाइनल में खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही वीनस विलियम्स को हराया था।

इससे पहले स्टीफेन्स का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2013 के ऑस्ट्रेलियन ओपन के महिला एकल सेमीफाइनल में पहुँचना था तथा उस प्रतियोगिता में उन्होंने सेरेना विलियम्स को हराया था। उनकी सर्वोच्च एकल रैंकिंग 11 रही है। दूसरी ओर मेडिसन कीज़ का इस फाइनल से पूर्व सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन ऑस्ट्रेलियन ओपन के सेमीफाइनल में पहुँचना था।

उल्लेखनीय है कि यह यूएस ओपन महिला एकल वर्ग में वर्ष 2002 के बाद पहला ऐसा फाइनल था जिसमें दोनों अमेरिकी खिलाड़ी थीं। 2002 का वह फाइनल वीनस और सेरेना विलियम्स के बीच खेला गया था।

……………………………………………………………………

4) कैबिनेट समिति की अध्यक्षता वाली एक समिति ने सितम्बर 2017 के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के किस उपक्रम को “महारत्न” (“Maharatna”) दर्जा प्रदान करने के प्रस्ताव को अपनी सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी? – भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL)

विस्तार: सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कम्पनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (Bharat Petroleum Corporation Limited – BPCL) को महारत्न दर्जा (Maharatna status) प्रदान करने को सैद्धांतिक मंजूरी मिल गई है। कैबिनेट सचिव (Cabinet Secretary) की अध्यक्षता वाली एक समिति ने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है।

सरकार के नियमों के अनुसार महारत्न दर्जे के लिए अर्ह होने के लिए जरूरी है कि वह सार्वजनिक उपक्रम “नवरत्न” दर्जा हासिल किए हो, उसका पिछले तीन वर्ष का औसत व्यवसाय, नेटवर्थ तथा वार्षिक मुनाफा (कर के बाद) क्रमश: 25,000 करोड़ रुपए, 15,000 करोड़ रुपए और 5,000 करोड़ रुपए हो। इसके अलावा ऐसे उपक्रम का विदेश में भी प्रभावशाली व्यवसाय पोर्टफोलियो होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि महारत्न (Maharatna) और नवरत्न (Navratna) दर्जा कोयला, पेट्रोलियम, इस्पात, भारी इंजीनियरिंग, दूरसंचार तथा परिवहन जैसे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्रों (strategically important fields) में संलग्न अग्रणी उपक्रमों को प्रदान किया जाता है।

वर्तमान में जिन 7 उपक्रमों को महारत्न दर्जा हासिल है, वे हैं – भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL), कोल इण्डिया लिमिटेड (CIL), गैस अथॉरिटी ऑफ इण्डिया लिमिटेड (GAIL), इण्डियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC), एनटीपीसी (NTPC), तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) और भारतीय इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड (SAIL)।

……………………………………………………………………

5) केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सितम्बर 2017 के दौरान जारी एक नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार देश के किस राज्य में लगातार तीसरे वर्ष देश में सबसे कम नवजात मृत्यु दर (India’s lowest infant mortality rate) दर्ज की गई है? – मणिपुर (Manipur)

विस्तार: उत्तर-पूर्वी भारत के राज्य मणिपुर (Manipur) में देश में सबसे कम नवजात मृत्यु दर (infant mortality rate – IMR) दर्ज की गई है, जोकि प्रति 1000 जिंदा जन्मों पर 9 मृत्यु (9 deaths per 1000 live births) है। यह तथ्य केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सितम्बर 2017 में जारी एक रिपोर्ट में सामने आया है। खास बात यह है कि मणिपुर ने यह उपलब्धि लगातार तीसरे वर्ष हासिल की है।

इस रिपोर्ट के अनुसार देश की औसत नवजात मृत्यु दर प्रति 1000 जिंदा जन्मों पर 43 मृत्यु (43 deaths per 1000 live births) है। विशेषज्ञों के अनुसार मणिपुर को इस क्षेत्र में सफलता मिलने के प्रमुख कारण हैं – बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं, प्रभावशाली टीकाकरण अभियान, डॉक्टरों तथा स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अधिक जिम्मेदारी प्रदर्शित करना, स्वास्थ्य के बारे में राज्य में बढ़ती जागरुकता, अधिकाधिक प्रसव संस्थागत (अस्पतालों में) होना तथा राज्य में नारी सशक्तीकरण।

……………………………………………………………………

6) हाल ही में सम्पन्न जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (JNUSU) चुनावों में अध्यक्ष (President) का प्रतिष्ठित पद किसने जीता, जिसकी घोषणा 10 सितम्बर 2017 को की गई? – गीता कुमारी

विस्तार: संयुक्त वामपंथी धड़ों की उम्मीदवार गीता कुमारी (Geeta Kumari) ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (Jawaharlal Nehru University Student’s Union – JNUSU) के अध्यक्ष (President) पद के लिए हुआ चुनाव जीत लिया है। उन्होंने एक कड़े मुकाबले में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) की निधि त्रिपाठी को 464 मतों से पराजित किया।

इस चुनाव में समस्त चार पदों को संयुक्त वामपंथी गठबन्धन के अभ्यर्थियों ने जीतकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा समर्थित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad – ABVP) को खासे अंतर से पराजित किया। उपाध्यक्ष (Vice-President) का चुनाव AISA की सिमोन ज़ोया खान (Simone Zoya Khan) ने जीता जबकि वामपंथी अभ्यर्थी डुग्गीराला श्रीकृष्णा (Duggirala Srikrisha) ने महासचिव (General Secretary) का पद हासिल किया। वहीं संयुक्त सचिव (Joint Secretary) का पद भी वामपंथी दलों के सुभांशु सिंह (Shubhanshu Singh) ने हासिल किया।

……………………………………………………………………

7) दिग्गज अमेरिकी टैक्नोलॉजी कम्पनी एप्पल (Apple Inc.) ने 12 सितम्बर 2017 को अपने तीन नए आईफोन्स (3 new iPhones) पर से पर्दा उठाया तथा आईफोन एक्स (iPhone X) नामक एक बिल्कुल नया क्रांतिकारी फोन भी पेश किया। इस घटना से जुड़ा एक अहम तथ्य क्या था? – एप्पल ने अपने नए उत्पादों को पेश करने के लिए पहली बार स्टीव जॉब्स थियेटर (Steve Jobs Theater) का इस्तेमाल किया

विस्तार: एप्पल (Apple Inc.) ने अपने उत्पादों को पेश करने से सम्बन्धित प्रस्तुतिकरण (unveiling) को 12 सितम्बर 2017 को पहली बार बिल्कुल नए बने स्टीव जॉब्स थियेटर (Steve Jobs Theater) में आयोजित किया। यह थियेटर कैलीफोर्निया के कुपरटीनो (Cupertino) में स्थित कम्पनी के मुख्यालय में स्थित एक पहाड़ी पर बनाया गया है जहाँ से एप्पल के पूरे कैम्पस का नज़ारा देखा जा सकता है। कम्पनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) टिम कुक (Tim Cook) ने पहली बार इस स्थान से अपना प्रस्तुतिकरण दिया।

उल्लेखनीय है कि स्टीव जॉब्स थियेटर का नाम कम्पनी के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स (Steve Jobs) के नाम पर रखा गया है तथा उन्होंने अपनी मृत्यु से पूर्व एप्पल कैम्पस को अद्वितीय बनाने का सपना देखा था। इस थियेटर में एक हजार लोगों के बैठने की जगह है।

इस मौके पर एप्पल ने तीन नए फोन प्रस्तुत किए, जिसमें आईफोन एक्स (iPhone X) नामक नया फोन सबके आकर्षण का केन्द्र रहा। इसे एप्पल फोन्स को पेश करने के दसवें वर्ष में खास तौर पर पेश किया गया। इसके अलावा आईफोन 7 श्रृंखला के दो नए उत्तराधिकारी आईफोन 8 (iPhone 8) और आईफोन 8 प्लस (iPhone 8 Plus) पर से भी पर्दा उठाया गया। आईफोन एक्स की तीन सबसे बड़ी खासियते हैं इसका बेज़ल फ्री डिज़ाइन (यानि कोनों तक स्क्रीन), होम बटन को समाप्त करना और फेस आईसी (Face ID) सिस्टम जिसमें एक अत्याधुनिक कैमरा प्रयोगकर्ता का चेहरा पहचान कर फोन को खोलेगा। इसके 64 GB मॉडल की कीमत 89,000 रुपए रखी गई है जबकि 256 GB मॉडल की कीमत 1,02,000 रखी गई है। इस प्रकार आईफोन एक्स भारत में 1 लाख रुपए से अधिक कीमत वाला पहला पापुलर फोन होगा। इसकी भारत में प्री-बुकिंग 27 अक्टूबर 2017 से शुरू होगी।

……………………………………………………………….

8) सितम्बर 2017 के दौरान भारत के पूँजी बाजार की नियामक संस्था सेबी (SEBI) की म्यूचुअल फण्ड्स से सम्बन्धित एक सलाहकार समिति (Mutual Fund Advisory Panel) ने क्या महत्वपूर्ण सिफारिश की है जिससे म्यूचुअल फण्ड्स योजनाओं की संख्या घट कर आधी रह जाने की संभावना जताई गई है? – म्यूचुअल फण्ड्स के वर्गीकरण की व्याख्या में कड़े नियम

विस्तार: भारत के पूँजी बाजार की नियामक संस्था भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (Securities and Exchange Board of India – SEBI) की म्यूचुअल फण्ड्स से सम्बन्धित एक सलाहकार समिति ने सितम्बर 2017 के दौरान म्यूचुअल फण्ड्स व्यवसाय के बारे में में अपनी रिपोर्ट पेश की। इस रिपोर्ट में की गई एक अहम सिफारिश म्यूचुअल फण्ड्स के वर्गीकरण (classification) से सम्बन्धित है जिसमें कहा गया है कि इस वर्गीकरण की व्याख्या उपयुक्त तरह से म्यूचुअल फण्ड कम्पनियों द्वारा की जानी चाहिए।

इस समिति ने अपनी सिफारिश में कहा है कि म्यूचुअल फण्ड्स योजनाओं को मोटे तौर पर चार वर्गों में बाँटा जा सकता है – इक्विटी, डेब्ट, हाइब्रिड और थीमेटिक। इक्विटी और डेब्ट जैसी योजनाओं को लार्ज कैप और स्मॉल कैप जैसे उप-वर्गों में बाँटा जा सकता है। समिति ने खास तौर पर कहा है एसेट मैनेजमेण्ट कम्पनी (AMC) को हर वर्ग में एक ही योजना पेश करनी चाहिए। इस सिफारिश को लागू करने पर म्यूचुअल फण्ड्स योजनाओं की संख्या कम होने की संभावना है।

……………………………………………………………….

9) भारत की खाद्य नियामक संस्था FSSAI द्वारा 12 सितम्बर 2017 को शुरू किए गए वेब-आधारित देशव्यापी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का क्या नाम है जिसकी मदद से खाद्य पदार्थों के व्यवसाय में खाद्य सुरक्षा एवं स्वच्छता पर नज़र रखने का काम किया जायेगा? – ‘FoSCoRIS’

विस्तार: भारत की खाद्य नियामक संस्था भारतीय खाद्य सुरक्षा व मानक प्राधिकरण (Food Safety and Standards Authority of India – FSSAI) ने 12 सितम्बर 2017 को ‘FoSCoRIS’ नामक एक वेब-आधारित देशव्यापी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म शुरू किया है जिसका मुख्य उद्देश्य खाद्य सुरक्षा व इसकी जाँच में अधिकाधिक पारदर्शिता लाना है।

इस नए प्लेटफॉर्म के द्वारा देश में खाद्य सुरक्षा (food safety) व खाद्य व्यवसाय में स्वच्छता के मानकों (hygiene standards) के सम्बन्ध में सरकार द्वारा तय मानकों को लागू करने की स्थिति का बेहतर सत्यापन (verification) संभव होगा। ‘FoSCoRIS’ के द्वारा खाद्य इस क्षेत्र से जुड़े तमाम भागीदारों (stake-holders) जैसे खाद्य व्यवसायों, खाद्य सुरक्षा अधिकारियों, सम्बन्धित अन्य अधिकारियों, राज्य खाद्य सुरक्षा आयुक्तों, आदि को एक देशव्यापी आईटी प्लेटफॉर्म पर एक साथ लाना संभव हो गया है। वहीं इसकी मदद से खाद्य पदार्थों की जाँच, नमूने इकट्ठे करने तथा एकत्रित नमूनों की जाँच के परिणामों को सभी अधिकारियों के साथ आसानी से साझा किया जा सकेगा।

……………………………………………………………….

10) कौन सा बैंकिंग उपक्रम 12 सितम्बर 2017 को बाजार पूँजीकरण (market capitalization) के मामले में टीसीएस (TCS) को पहली बार पछाड़ने में सफल रहा? – एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank)

विस्तार: निजी क्षेत्र का प्रमुख बैंक एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) 12 सितम्बर 2017 को देश की दूसरी सबसे मूल्यवान कम्पनी बन गया। खास बात यह रही कि बाजार पूँजीकरण के मामले में दिग्गज सॉफ्टवेयर कम्पनी टाटा कन्सलटेंसी लिमिटेड (Tata Consultancy Services – TCS) को पहली बार (कुछ देर के लिए) पछाड़ने में सफलता हासिल की।

बीएसई (BSE) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 12 सितम्बर 2017 को एचडीएफसी बैंक के शेयर-मूल्य में 0.6% की वृद्धि हुई तथा यह 1,833.75 रुपए के स्तर तक पहुँच गया। इससे कम्पनी का बाजार मूल्य 4.73 ट्रिलियन रुपए (4.3 लाख करोड़ रुपए) पहुँच गया। उस समय TCS का बाजार पूँजीकरण 4.2 ट्रिलियन डॉलर तथा इस प्रकार एचडीएफसी बैंक ने उसे पीछे छोड़ दिया। हालांकि HDFC Bank को यह सफलता थोड़ी देर के लिए ही मिली क्योंकि ट्रेडिंग समाप्त होने तक TCS का बाजार पूँजीकरण 4.6 ट्रिलियन तक पहुँच गया था। लेकिन इसके बावजूद एचडीएफसी बैंक को टीसीएस को पहली बार पीछे छोड़ने में सफलता जरूर मिली।

उल्लेखनीय है कि HDFC Bank इससे पहली भी देश की दूसरी सबसे मूल्यवान कम्पनी बन चुका है जब 11 नवम्बर 2016 को इसने रिलयांस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) को तीसरे स्थान पर ढकेल दिया था। लेकिन यह पहला मौका था जब बैंक ने इस मामले में TCS को पीछे छोड़ा है। वहीं 5.35 ट्रिलियन रुपए के साथ RIL वर्तमान में देश की सबसे मूल्यवान कम्पनी है।

……………………………………………………………….

11) 12 सितम्बर 2017 को तीन T20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों की श्रृंखला के शुरू होने के साथ पाकिस्तान में एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी हो गई। पाकिस्तान एकादश और विश्व एकादश के बीच हो रहे इस ऐतिहासिक टूर्नामेण्ट का क्या नाम है? – इण्डिपेण्डेंस कप (Independence Cup)

विस्तार: इण्डिपेण्डेंस कप (Independence Cup) तीन T20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों की श्रृंखला से सम्बन्धित टूर्नामेण्ट है जिसका प्रारंभ 12 सितम्बर 2017 को हुआ। इस टूर्नामेण्ट को लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में आयोजित किया जा रहा है तथा इसी के साथ पाकिस्तान में एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का आयोजन शुरू हो गया।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2009 में श्रीलंकाई टीम के पाकिस्तानी दौरे के समय लाहौर में श्रीलंका के क्रिकेटर्स को ले जा रही बस पर आतंकी हमला हुआ था जिसमें ये क्रिकेटर बाल-बाल बचे थे। इसके बाद यहाँ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों का आयोजन नहीं हुआ क्योंकि कोई टीम यहाँ आकर खतरा मोल लेना नहीं चाहती थी। उस घटना के बाद पाकिस्तानी आई एकमात्र विदेशी टीम जिम्बाब्वे (Zimbabwe) थी जिसने 2015 में एक द्विपक्षीय श्रृंखला में भाग लिया था।

अब इण्डिपेण्डेंस कप के आयोजन से पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी हुई है। इसमें पाकिस्तान एकादश (Pakistan XI) का नेतृत्व सरफराज़ अहमद (Sarfaraz Ahmed) कर रहे हैं जबकि विश्व एकादश (World XI) टीम का नेतृत्व दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर एफ. डु प्लेसी (Faf du Plessis) कर रहे हैं।

……………………………………………………………….

12) देश के डेयरी क्षेत्र के विकास के लिए आर्थिक मामलों पर गठित कैबिनेट समिति (CCEA) ने 12 सितम्बर 2017 को एक नया कोष स्थापित करने को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी। वित्तीय वर्ष 2017-18 से 2028-29 तक प्रभावी रहने वाले इस कोष का नाम क्या है? – डेयरी प्रसंस्करण एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास कोष

विस्तार: डेयरी प्रसंस्करण एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास कोष (Dairy Processing and Infrastructure Development Fund – DPIDF) नामक एक नए कोष की स्थापना करने को आर्थिक मामलों पर गठित कैबिनेट समिति (Cabinet Committee on Economic Affairs – CCEA) ने 12 सितम्बर 2017 को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी। करोड़ रुपए से स्थापित किया जाने वाला यह कोष 2017-18 से 2028-29 तक देश के डेयरी क्षेत्र के विकास में अपना योगदान देगा।

इस कोष का प्रबन्धन राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (National Dairy Development Board – NDDB) द्वारा किया जायेगा जबकि इसके तहत ऋण प्रदान कर देश में दुग्ध की आपूर्ति प्रणाली को मजबूत करने तथा डेयरी प्रसंस्करण उद्योग को संबल प्रदान करने का काम राष्ट्रीय डेयरी विकास सहकारिता उपक्रम (National Dairy Development Cooperation – NCDC) द्वारा किया जायेगा।

इस कोष के तहत किसानों को 6.5% वार्षिक ब्याज दर पर 10 वर्ष की समयावधि के लिए ऋण प्रदान किए जायेंगे जिसमें प्रारंभिक दो वर्ष तक धन-वापसी पर छूट (2 year moratorium) प्रदान की जायेगी। ऋण की आदयगी के लिए राज्य सरकार गारेंटर (guarantor) की भूमिका निभायेंगी तथा ऋण की अदायगी न हो पाने की स्थिति में राज्य सरकार धन की अदायगी करेगी।

……………………………………………………………………….

13) गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स नेटवर्क (GSTN) के कामकाज पर नज़र रखने तथा इसकी मदद के लिए केन्द्रीय वित्त मंत्रालय ने सितम्बर 2017 के दौरान मंत्रियों की 5-सदस्यीय समिति का गठन किया। इसकी अध्यक्षता किसे सौंपी गई? – सुशील कुमार मोदी

विस्तार: केन्द्रीय वित्त मंत्रालय ने बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) की अध्यक्षता में एक पाँच-सदस्यीय मंत्रीस्तरीय समिति का(5-member Ministerial Committee) गठन सितम्बर 2017 के दौरान किया जिसे गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स नेटवर्क (GSTN) के कामकाज पर नज़र रखने तथा इसकी मदद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स नेटवर्क 1 जुलाई 2017 से लागू गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स (GST) के रिटर्न्स का प्रबन्धन करने वाली कम्पनी है।

इस समिति का गठन इसलिए किया गया है क्योंकि 9 सितम्बर 2017 को जीएसटी परिषद (GST Council) की बैठक में परिषद के तमाम सदस्यों ने यह कहा था कि गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स नेटवर्क की तकनीकी खामियों के कारण जीएसटी रिटर्न्स फाइल करने में व्यवसायियों को तमाम प्रकार की समस्याएं पेश आ रही हैं।

इस समिति के अन्य 4 सदस्य हैं – अमर अग्रवाल (वाणिज्य कर मंत्री, छत्तीसगढ़), कृष्णा बायरेगौडा (कृषि मंत्री, कर्नाटक), थॉमस आइज़ैक (वित्त मंत्री, केरल) और एतेला राजेन्दर (वित्त मंत्री, तेलंगाना)।

……………………………………………………………………….

14) देश की पहली होम्योपैथी-आधारित वीरोलॉजी (वायरल रोग) प्रयोगशाला का उद्घाटन 12 सितम्बर 2017 को किस स्थान पर किया गया? – कोलकाता (Kolkata)

विस्तार: केन्द्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद येसो नाइक ने 12 सितम्बर 2017 को देश की पहली तथा अत्याधुनिक होम्योपैथी-आधारित वीरोलॉजी प्रयोगशाला (India’s first-ever virology laboratory of Homoeopathy) का उद्घाटन कोलकाता (Kolkata) में किया। देश में अपने तरह की यह पहली प्रयोगशाला कोलकाता में स्थित डॉ. अंजली चटर्जी क्षेत्रीय होम्योपैथी अनुसंधान संस्थान (Dr. Anjali Chatterjee Regional Research Institute for Homoeopathy) में स्थापित की गई है।

8 करोड़ रुपए से स्थापित इस प्रयोगशाला में फ्लू, जापानी इन्सेफेलाइटिस, डेंगू और चिकनगुनिया जैसे वायरल रोगों के होम्योपैथी पद्धति के द्वारा उपचार पर मूलभूत प्रयोग व अनुसंधान किए जायेंगे। इस प्रयोगशाला को कलकत्ता विश्वविद्यालय ने पीएचडी छात्रों को अनुसंधान करने हेतु प्रवेश देने की अनुमति प्रदान की है।

……………………………………………………………………….

15) 13 सितम्बर 2017 को सिंगापुर (Singapore) की अगली राष्ट्रपति के तौर पर नामित होकर कौन इस द्वीप-राष्ट्र के इतिहास की पहली महिला राष्ट्रपति बनने जा रही हैं? – हलीमा याकोब (Halimah Yacob)

विस्तार: 63-वर्षीया हलीमा याकोब (Halimah Yacob), जोकि देश की संसद की पूर्व अध्यक्ष (Ex-Speaker) हैं तथा अल्पसंख्यक मलय मुस्लिम समुदाय (Malay Muslim community) से आती हैं, को 13 सितम्बर 2017 को सिंगापुर (Singapore) की अगली राष्ट्रपति चुन लिया गया। उनके चुनाव में खास बात यह रही कि किसी अन्य उम्मीदवार के खड़े न होने के कारण बिना किसी मतदान के उनका चुनाव कर लिया गया।

वे टोनी हान (Tony Han) का स्थान लेंगी जो अपना 6-वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद 31 अगस्त 2017 को सेवानिवृत्त हो गए थे। उनके बाद भारतीय मूल के जे.वाई. पिल्लै (J.Y. Pillay) ने कार्यवाहक राष्ट्रपति (acting President) का पद ग्रहण किया था।

एक तरफ उनका राष्ट्रपति पद पर निर्वाचन सिंगापुर के इतिहास की ऐतिहासिक घटना है क्योंकि वे देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनने जा रही हैं लेकिन वहीं दूसरी तरफ उनके निर्वाचन के तरीके को लेकर देश की जनता तथा लोकतंत्र समर्थक काफी मुखर होकर अपना विरोध भी जता रही हैं। उनके निर्वाचन में लोकतांत्रिक मर्यादाओं का निर्वहन न करने का आरोप लगाया गया।

उल्लेखनीय है कि हलीमा याकोब के खिलाफ पहले दो अन्य दावेदार मैदान में थे – सालेह मारिकन (Salleh Marican) और फरीद खान (Farid Khan)। लेकिन एक संवैधानिक नियम का हवाला देकर उनके चुनाव में खड़े होने पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया।

……………………………………………………………………….

16) केरल के उस ईसाई पादरी का क्या नाम है जिसे एक साल से अधिक समय तक यमन (Yemen) में अपहरणकर्ताओं द्वारा बंधक बनाए जाने के बाद सितम्बर 2017 के दौरान रिहा कर दिया गया? – फादर टॉम उज़ुन्नलिल (Father Tom Uzhunnalil)

विस्तार: फादर टॉम उज़ुन्नलिल (Father Tom Uzhunnalil) केरल के कोट्टयम के एक कैथोलिक पादरी हैं जो यमन की राजधानी अदन (Aden) में स्थित मिशनरीज़ ऑफ चैरिटीज़ के केन्द्र में कार्यरत थे। मार्च 2016 में चार बंदूकधारियों ने यहाँ से उनका अपहरण कर लिया था। बंदूकधारियों ने यहाँ कार्य रही चार भारतीय नन्स (nuns), दो यमनी महिला कर्मियों, यहाँ रह रहे चार वरिष्ठ नागरिकों और एक सुरक्षागार्ड की हत्या भी कर दी थी।

इसके बाद उज़ुन्नलिल एक साल से अधिक समय तक किसी अज्ञात स्थान पर बंधक रहे। इनके दो वीडियो भी जारी किए गए थे जिसमें यह अपने को मुक्त कराने के लिए रहम की भीख मांगते दिखाई दे रहे थे। इससे यह अंदाज़ा भी लगाया था कि संभवत: उन्हें फिरौती के लिए बंधक बनाया गया है। उनको मुक्त करने की आधिकारिक घोषणा 12 सितम्बर 2017 को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने की।

……………………………………………………………………….

17) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना (India’s first Bullet Train project) के कार्य का उद्घाटन 14 सितम्बर 2017 को अहमदाबाद में किया। अहमदाबाद को मुम्बई से जोड़ने वाली इस प्रस्तावित 508 किलोमीटर लम्बी हाई-स्पीड लाइन का पहला टर्मिनल अहमदाबाद के किस स्थान पर बनाया जायेगा जहाँ यह उद्घाटन कार्यक्रम भी आयोजित किया गया? – साबरमती (Sabarmati)

विस्तार: भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना अहमदाबाद (Ahmedabad) को मुम्बई (Mumbai) से जोड़ेगी तथा इसका पहला टर्मिनल अहमदाबाद के साबरमती (Sabarmati) में स्थापित किया जायेगा। यह टर्मिनल मौजूदा साबरमती रेलवे स्टेशन पर बनाया जायेगा। वहीं मुम्बई में बुलेट ट्रेन का टर्मिनल बान्द्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में स्थापित करना प्रस्तावित है। साबरमती में ही यह उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया।

देश की इस पहली बुलेट ट्रेन परियोजना पर 1.1 लाख करोड़ रुपए (Rs. 1.1 lakh crore) का निवेश आयेगा तथा इसे भारतीय रेल (Indian Railways) और जापानी कम्पनी शिन्कान्सेन टैक्नोलॉजी (Shinkansen Technology) के बीच संयुक्त उपक्रम (joint venture) द्वारा क्रियान्वित किया जायेगा। जापानी दल का मानना है कि वर्ष 2023 तक यह बुलेट ट्रेन शुरू हो जायेगी जबकि भारत के रेल मंत्री पियूष गोयल के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि इसकी शुरुआत भारतीय स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ पर 15 अगस्त 2022 को हो जाए।

यह प्रस्तावित हाई-स्पीड ट्रैक देश की सबसे लम्बी 21 किलोमीटर की सुरंग से भी गुज़रेगा जिसमें से सात किलोमीटर समुद्र के नीचे होगा (महाराष्ट्र के थाणे के पास)। इस परियोजना से अहमदाबाद और मुम्बई के बीच लगने वाला समय मौजूदा आठ घण्टे से घटकर मात्र 2 घण्टे रह जायेगा। लेकिन यदि इस ट्रैक के सभी प्रस्तावित 12 स्टेशनों पर ट्रेन रोकी जाती है तो यह समय तीन घण्टे हो जायेगा।

1.1 लाख करोड़ मूल्य की इस परियोजना के 81% हिस्से (88,000 करोड़ रुपए) का वित्त पोषण जापानी सरकार करेगी तथा इसके लिए बेहद रियायती ब्याज दर मात्र 0.1% वसूली जायेगी। भारत को यह कर्ज अगले 50 वर्षों में चुकाना होगा।

………………………………………………………………………..

18) 13 सितम्बर 2017 को अंतर्राष्ट्रीय ऑलम्पिक समिति (IOC) द्वारा की गई घोषणा के अनुसार वर्ष 2024 और 2028 के ग्रीष्मकालीन ऑलम्पिक खेलों  (Summer Olympics) का आयोजन क्रमश: किन शहरों में किया जायेगा? – पेरिस और लॉस एंजिल्स

विस्तार: फ्रांस की राजधानी पेरिस (Paris) में वर्ष 2024 के ग्रीष्मकालीन ऑलम्पिक खेल आयोजित किए जायेंगे जबकि इन खेलों का 2028 में होने वाला अगला संस्करण अमेरिका के लॉस एंजिल्स (Los Angles) शहर में होगा। यह घोषणा अंतर्राष्ट्रीय ऑलम्पिक समिति (International Olympic Committee – IOC) की पेरू की राजधानी लीमा (Lima) में चल रहे वार्षिक सत्र (Annual Session) के दौरान 13 सितम्बर 2017 को की गई। इस घोषणा की खास बात थी कि यह पहला मौका था जब एक ही साथ जो आयोजक शहरों की घोषणा की गई।

उल्लेखनीय है कि 2024 के ऑलम्पिक खेलों का आयोजन पेरिस और लॉस एंजिल्स दोनों शहर करना चाहते थे। लेकिन बाद में लॉस एंजिल्स ने अपनी दावेदारी IOC के इस वादे पर छोड़ दी कि उसे अगले खेलों के आयोजन की जिम्मेदारी और वित्त पोषण में सहायता प्रदान की जायेगी। 2024 के खेलों के लिए तीन अन्य दावेदारों हैमबर्ग, रोम और बुडापेस्ट द्वारा पीछे हटने के बाद पेरिस और लॉस एंजिल्स ही दो दावेदार बचे थे।

पेरिस ने 2008 व 2012 के खेलों के लिए भी दावेदारी की थी तथा अब 2024 के खेलों की जिम्मेदारी मिलने के बाद इस शहर में 100 वर्षों के बाद यह प्रतिष्ठित आयोजन पुन: होगा। लॉस एंजिल्स 1931 और 1984 में इन खेलों का आयोजन कर चुका है।

………………………………………………………………………..

19) भारत ने बांग्लादेश में शरणार्थी बनकर आए म्यांमार के रोहिन्ग्या मुस्लिमों (Rohingya Muslims) को सहायता प्रदान करने के लिए सामान की एक बड़ी खेंप 14 सितम्बर 2017 को रवाना कर दी। मानवीय सहायता पहुँचाने के इस अभियान को क्या नाम दिया गया है? – “ऑपरेशन इंसानियत” (“Operation Insaniyat”)

विस्तार: “ऑपरेशन इंसानियत” (“Operation Insaniyat”) भारत सरकार के मानवीय सहायता पहुँचाने वाले उस ऑपरेशन को दिया गया नाम है जिसके तहत म्यांमार (Myanmar) से लाखों की संख्या में शरणार्थी (refugees) बनकर बांग्लादेश (Bangladesh) पहुँचे रोहिन्ग्या मुसलमानों (Rohingya Muslims) की सहायता की जायेगा। इसके तहत सहायता की पहली खेंप 14 सितम्बर 2017 को भेजी गई।

इस खेंप में पीड़ित लोगों के तुरंत काम में आने वाली खाद्य व अखाद्य वस्तुएं हैं जैसे चावल, दाल, चीनी, नमक, खाद्य तेल, चाय, नूडल्स, बिस्कुट, कम्बल, मच्छर-दानी, तंबू, आदि।

संयुक्त राष्ट्र (UN) के आकलन के अनुसार 25 अगस्त 2017 को म्यान्मार के हिंसाग्रस्त राखिने (Rakhine) प्रांत में हिंसा का भयंकर दौर शुरू होने के बाद से अब तक लगभग रोहिन्ग्या मुसलमान बांग्लादेश में शरण ले चुके हैं।

………………………………………………………………………..

20) 14 सितम्बर 2017 को “इलेक्ट्रिक वाहनों” (Electric Vehicles) पर अपनी नीति (Policy) जारी कर कौन सा राज्य इस महत्वपूर्ण पर्यावरणीय विषय पर नीति जारी करने वाला देश का पहला राज्य बन गया? – कर्नाटक (Karnataka)

विस्तार: कर्नाटक (Karnataka) की राज्य सरकार ने 14 सितम्बर 2017 को ‘Electric Vehicle and Energy Storage Policy 2017’ नामक विस्तृत नीति पेश की जोकि भारत के किसी राज्य द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों पर प्रस्तुत की गई पहली नीति है। इस नीति के तहत कर्नाटक सरकार इलेक्ट्रिक परिवहन क्षेत्र में 31,000 करोड़ रुपए के निवेश को आकर्षित करने की मंशा रखती है।

नीति में यह उल्लेख किया गया है कि कर्नाटक को देश में वैकल्पिक ईंधन पर चलने वाले वाहनों के उत्पादन हब के रूप में स्थापित किया जायेगा तथा इसके द्वारा जीवाश्म-आधारित ईंधन पर निर्भरता को कम कर राज्य के “मेक इन कर्नाटक” नामक प्रयास को भी संबल प्रदान किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि “इलेक्ट्रिक वाहनों” पर किसी स्पष्ट केन्द्रीय नीति का अभी भी अभाव है। भारत वर्तमान में वाहनों की संख्या के आधार पर दुनिया का पाँचवा सबसे बड़ा देश है तथा 2020 तक यह तीसरे स्थान पर पहुँच जायेगा। इससे तमाम पर्यावरणीय चुनौतियों का सामना देश को करना पड़ेगा तथा इलेक्ट्रिक वाहन इस परिदृश्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेंगे।

………………………………………………………………………..

21) 469 पृष्ठों का उपन्यास “व्हाट हैपेण्ड” (“What Happened”), जिसे 12 सितम्बर 2017 को जारी किया गया, किस प्रमुख राजनीतिक हस्ती के संस्मरण हैं? – हिलेरी क्लिंटन (Hillary Clinton)

विस्तार: “व्हाट हैपेण्ड” (“What Happened”) वर्ष 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में खड़ी डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रत्याशी हिलेरी रोडेम क्लिंटन के संस्मरण (memoirs) हैं जिसमें उन्होंने अपनी चुनाव यात्रा तथा रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) के हाथों अपनी अप्रत्याशित हार के कारणों का बहुत बेबाकी से उल्लेख किया है। यह पुस्तक जारी होने से पहले ही दुनिया भर में काफी लोकप्रियता हासिल कर चुकी थी।

………………………………………………………………………..

22) शनि (Saturn) ग्रह का अन्वेषण करने वाला अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) का कैसिनी (Cassini) अंतरिक्ष-यान 15 सितम्बर 2017 को हमेशा के लिए समाप्त हो गया तथा इसी के साथ इस ग्रह की तमाम जानकारियाँ भेजने एवं 4.9 अरब मील की यात्रा करने वाले इस यान का अभियान भी समाप्त हो गया। यह यान किस वर्ष पृथ्वी से भेजा गया था? – 1997 में

विस्तार: कैसिनी (Cassini) अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) द्वारा शनि ग्रह पर भेजे गए मानवरहित-अंतरिक्ष यान का नाम है। इस यान को एक अन्य यान ह्युगेन्स (Huygens) के साथ पृथ्वी से टाइटन IVB/सेन्टूर रॉकेट से 15 अक्टूबर 1997 को प्रक्षेपित किया गया था। यह दोनों यान शनि की कक्षा में 1 जुलाई 2004 को प्रवेश कर गए थे।

जहाँ ह्युगेन्स कैसिनी से अलग होकर 14 जनवरी 2005 को शनि के चन्द्रमा टाइटन (Titan) पर उतर गया था वहीं कैसिनी ने शनि के अन्वेषण का अपना अभियान चालू रखा तथा इससे जुड़ी तमाम जानकारियाँ पृथ्वी को भेजी। लेकिन 30 नवम्बर 2016 को कैसिनी की ऊर्जा समाप्त होने के बाद यह अपने अभियान के अंतिम चरण में पहुँच गया।

कैसिनी की यह ऐतिहासिक यात्रा 15 सितम्बर 2017 को समाप्त हो गई जब यह यान शनि के आकाश के ऊपर नष्ट होकर बिखर गया। इससे पिछले 20 सालों से प्राप्त हो रही रेडियो तरंगे बंद हो गईं और ये यान हमेशा के लिए शांत हो गया। इस यान ने शनि की अंतिम फोटो 14 सितंबर 2017 को भेजी थी।

कैसिनी शनि ग्रह तक पहुँचने वाला अभी तक का एकमात्र यान है। अपनी 4.9 अरब मील की यात्रा के दौरान इसने से 453,000 अधिक फोटो भेजीं तथा शनि के बारे में हमारी तमाम भ्रांतियों को दूर किया। 20 वर्ष लम्बे इस ऐतिहासिक मिशन में नासा का साथ 27 देशों की एजेंसियों ने दिया तथा इस पर आया कुल खर्च 3.9 अरब डॉलर आंका गया है।

……………………………………………………………….

23) राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द द्वारा 15 सितम्बर 2017 को कानपुर से शुरू किए गए उस राष्ट्रव्यापी स्वच्छता अभियान को क्या नाम दिया गया है जिसके द्वारा केन्द्र सरकार के “स्वच्छ भारत मिशन” (‘Swachh Bharat Mission’) के बारे में जागरूकता फैलाने और इसे प्रभावी बनाने का काम किया जायेगा? – “स्वच्छता ही सेवा” (“Swachhta Hi Seva”)

विस्तार: “स्वच्छता ही सेवा” (“Swachhta Hi Seva”) एक पखवाड़े तक चलने वाले उस स्वच्छता अभियान को दिया गया नाम है जिसका उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द (President Ramnath Kovind) ने 15 सितम्बर 2017 को कानपुर के ईश्वरीगंज (Ishwariganj) नामक गाँव में किया। इस कार्यक्रम के उद्घाटन के लिए इस गाँव का चयन इसलिए किया गया है क्योंकि यह राष्ट्रपति के गृह जनपद कानपुर का पहला खुले-में-शौच से मुक्त गाँव बना है। इस अभियान के द्वारा समस्त देशवासियों को स्वच्छता में भागीदारी देकर महात्मा गांधी के सपने को पूरा करने का खाका तैयार किया गया है।

“स्वच्छता ही सेवा” मिशन का संयोजन केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय (Union Ministry of Drinking Water and Sanitation) द्वारा किया जा रहा है जो “स्वच्छ भारत मिशन” की भी संयोजक एजेंसी है।

……………………………………………………………….

24) स्वदेशी तकनीक से विकसित हवा-से-हवा-में मार करने वाली उस बियाण्ड वीज़ुअल रेंज-आधारित प्रक्षेपास्त्र (Beyond Visual Range Air-to-Air Missile – BVRAAM) का क्या नाम है जिसके विकासात्मक परीक्षण 15 सितम्बर 2017 को सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के बाद इसको भारतीय वायुसेना में शामिल करने का मार्ग प्रशस्त हो गया है? – अस्त्र (Astra)

विस्तार: अस्त्र (Astra) स्वदेशी तकनीक से विकसित हवा-से-हवा-में मार करने वाली उस बियाण्ड वीज़ुअल रेंज-आधारित प्रक्षेपास्त्र का नाम है जिसको भारतीय वायुसेना (Indian Air Force – IAF) के लिए विकसित किया गया है। इसका विकास रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने भारतीय वायुसेना (IAF) के सहयोग से किया है।

इस प्रक्षेपास्त्र के अंतिम चरणीय विकासात्मक परीक्षण (final development trials) 11 से 14 सितम्बर 2017 तक ओडीशा के तट पर स्थित चांदीपुर (Chandipur) से बंगाल की खाड़ी में संचालित किए गए। ऐसे कुल सात परीक्षण किए गए जिसमें पायलट-रहित विमानों को निशाना बनाया गया तथा इस सभी परीक्षणों में लक्ष्य को भेदने में सफलता हासिल हुई। परीक्षण के इस अंतिम चरण के सफल होने के साथ “अस्त्र” को भारतीय वायुसेना में शामिल करने का मार्ग भी प्रशस्त हो गया है।

……………………………………………………………….

25) भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच संचालित किया जाने वाला “युद्ध अभ्यास 2017” (“Exercise Yudh Abhyas 2017”) नामक संयुक्त सैन्य-अभ्यास 14 सितम्बर 2017 से किस स्थान में शुरू हुआ? – वाशिंग्टन (Washington)

विस्तार: भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच संचालित किया जाने वाला “युद्ध अभ्यास 2017” नामक संयुक्त सैन्य-अभ्यास 14 सितम्बर 2017 से अमेरिका के वाशिंग्टन (Washington) के पास स्थित ज्वाइंट बेस लुइस मैकॉर्ड (Joint Base Lewis McChord) में शुरू हो गया। यह अभ्यास 27 सितम्बर 2017 तक चलेगा।

“युद्ध अभ्यास” भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच चल रहे सबसे बड़े संयुक्त-अभ्यासों में से एक है। यह प्रति दो वर्ष में आयोजित होने वाली इस श्रृंखला का 13वाँ अभ्यास है। इस अभ्यास से दोनों देशों के सैन्य बलों के बीच बटालियन स्तर पर एकीकृत रूप से काम करने की पद्धति का विकास होगा जबकि ब्रिगेड-स्तर पर संयुक्त नियोजन करने को इससे बढ़ावा मिलेगा।

……………………………………………………………….

26) विश्व आर्थिक मंच (WEF) द्वारा 14 सितम्बर 2017 को जारी वैश्विक मानव पूँजी सूचकांक 2017 (Global Human Capital Index 2017 (GHCI) में भारत (India) को क्या स्थान प्रदान किया गया है? – 103वाँ (कुल 130 देशों में)

विस्तार: विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum – WEF) द्वारा तैयार वर्ष 2017 के वैश्विक मानव पूँजी सूचकांक (Global Human Capital Index) में भारत को सूचकांक में शामिल कुल 130 देशों में 103वाँ स्थान दिया गया है। भारत 5 ब्रिक्स देशों में सबसे निचले पायदान पर है जबकि सूचकांक में पहले स्थान पर नॉर्वे (Norway) है। पिछले वर्ष की इस सूची में भारत 105वें स्थान पर था जबकि शीर्ष स्थान पर फिनलैण्ड था।

जहाँ तक दक्षिण एशियाई देशों के परिप्रेक्ष्य में भारत की स्थिति की बात है तो यह श्रीलंका और नेपाल से भी पीछे है जबकि बांग्लादेश और पाकिस्तान से उसकी स्थिति बेहतर है।

सूचकांक में नॉर्वे जहाँ शीर्ष स्थान पर है वहीं इसके बाद फिनलैण्ड (Finland) और स्विट्ज़रलैण्ड (Switzerland) का स्थान है। शीर्ष 10 देशों में शामिल अन्य देश हैं – अमेरिका (चौथा), डेनमार्क (पांचवाँ), जर्मनी (छठा), न्यूज़ीलैण्ड (सातवाँ), स्वीडन (आठवाँ), स्लोवेनिया (नौवाँ) और ऑस्ट्रिया (दसवाँ)।

उल्लेखनीय है कि जिनेवा (Geneva) में स्थित विश्व आर्थिक मंच (WEF) द्वारा तैयार इस सूचकांक में तमाम प्रमुख देशों को उनकी “मानव पूँजी” (‘Human Capital’) की स्थिति के अनुसार अंक प्रदान कर स्थान दिया जाता है। इसमें देशों के नागरिकों के ज्ञान (knowledge) तथा कौशल (skill) का आकलन कर वैश्विक आर्थिक व्यवस्था में उनके योगदान को मापा जाता है।

……………………………………………………………….

http://www.churugurukul.com/?q=current-affairs-09-12-sep-2017